2859643 L
गज़ल, दिल की बातें, शायरी

मेरा कसूर क्या है

रूठने की वजह बताओ ऐ हुजूर क्या है चाहने के शिवा तुमको मेरा कसूर क्या है नहीं है मुझको तजुर्बा अगर तो क्या जानू शऊर क्या है मोहब्बत में बेशऊर क्या है जब से जाना है बस तुम्हीं को जाना मैनें मैं नहीं जानता परी क्या है और हूर क्या है जब से देखा है… Continue reading मेरा कसूर क्या है

गज़ल, दिल की बातें, शायरी

बेतकदीर हूँ बरसों से

ठहरो आंखों में तुम्हारी तस्वीर बना लूं मैं बेतकदीर हूँ बरसों से तकदीर बना लूं मैं कोई छीन नहीं पाए मुझसे तेरी चाहत तुझको ऐसे हाथों की लकीर बना लूं मैं जब तक है जाँ में जाँ तू मेरी ही रहना आ जा तुझको अपनी जागीर बना लूँ मैं चाहूँ तुझको शीरी फरहाद से भी… Continue reading बेतकदीर हूँ बरसों से

गज़ल, गीत, दिल की बातें

दिल की आरजू

दिल की आरजू है एक दिन तेरा होऊँ भूल कर ये दुनिया तेरी बाहों मैं सोऊँ अपने आप में तू मुझको ऐसे समा ले जब जब तू हँसे हँसू तेरे रोने से रोऊँ सारा सारा दिन तेरे खयालों में रहूँ मैं सारी सारी रात तेरे सपने सजोऊँँ खो जाए मेरा सब कुछ मंजूर है मुझे… Continue reading दिल की आरजू

कविताएं, गज़ल, दिल की बातें

ये प्यार के मसले हैं

न गुस्से से पूरे होंगे न जिद से मुकम्मल होंगे अजी ये प्यार के मसले हैं प्यार से हल होंगे अगर हो देखनी जन्नत तो अपनों के संग बैठेंं जो अपनों संग बीतेंगे वही जन्नत के पल होंगे कैसे बचेगी दुनिया और दुनिया में मोहब्बत भाई के हाथों यूँ ही गर भाई के कतल होंगे… Continue reading ये प्यार के मसले हैं

1035834 L
गज़ल, दिल की बातें

चराग बुझते रहे और हम जलाते रहे

लाखों तूफान मेरा सब्र आजमाते रहे चराग बुझते रहे और हम जलाते रहे तोडने वालों ने तो कोशिश हजार की दर्द सहकर हम हर रिश्ता निभाते रहे हम करते रहे अपना काम ठीक से उडाने वाले बेशक मजाक उडाते रहे बोलियों से दिल पे चोट करते रहे लोग और हम थे कि सुनते रहे मुस्कुराते… Continue reading चराग बुझते रहे और हम जलाते रहे

2359574 L
गज़ल, दिल की बातें

कोई इम्तिहान बाकी है

मेरे इस तन बदन में अब तक जान बाकी है जीवन का शायद कोई इम्तिहान बाकी है हर कर्ज उतारा है फिर भी चैन नहीं है क्यों ऐ दिल बता क्या किसी का एहसान बाकी है रह रह के उठ रही हैं क्यों जीने की ख्वाहिशें शायद अभी भी दिल में कुछ अरमान बाकी हैं… Continue reading कोई इम्तिहान बाकी है

1875356 L
गज़ल, दिल की बातें

हम याद रखेंगे

इस इश्क में हमें क्या क्या मिला याद रखेंगे मेरे दिल में कितना जख्म खिला याद रखेंगे खा खा के चोट तेरे झूठ और फरेब की किस तरह बिखरा दिल का किला याद रखेंगे याद रखेंगे सितमगर तेरा हर इक सितम हमने जो  किया  शिकवा गिला याद रखेंगे हम खुद को भूल भी गए तो कोई… Continue reading हम याद रखेंगे

PicsArt 03 24 10.21.00
गज़ल, दिल की बातें

इश्क वाली खता

जब से यार इश्क वाली खता हो गई मजेदार जिन्दगी बेमजा हो गई चैन से सोते थे पहले सारी रात हम रातें कटना भी अब तो सजा हो गई हमने दिल क्या लगाया गुनाह हो गया उसने दिल तोडा उसकी अदा हो गई साथ चलने का वादा किया था मगर वक्त  बदला और  राहें जुदा… Continue reading इश्क वाली खता

3613722 L
गीत, दिल की बातें

लौट के आ जाओ

रात बिताने को तो हजारों पाओगे पर जिन्दगी भर जो साथ निभाए, कहाँ से लाओगे आज जवानी है होठों पे कहानी है जब ये जवानी ढलेगी तो दिल की किसे सुनाओगे कभी तो आओगे किनारे पर तुम भी आखिर सागर में कश्ती ऐसे कब तक भरमाओगे दौलत की खातिर ठुकराना मोहब्बत को इस आदत की… Continue reading लौट के आ जाओ

2430065 L
गज़ल, दिल की बातें

ये मोहब्बत भी अजीब है

ये मोहब्बत भी अजीब है जो दुनिया भुला देती है ये वो इकलौती हँसी है जो अक्सर रुला देती है कभी तो कर देती है रोशन ये झोपडी गरीब की कभी बडे बडे महलों में भी आग लगा देती है मजा भी देती है लेकिन जब दोनों तरफ से हो एकतरफा हुई तो रोज कोई… Continue reading ये मोहब्बत भी अजीब है