हँसकर मिला करिए

कोई शिकवा शिकायत हो तो फिर हमसे गिला करिए अरे जब भी मिला करिए तो हँसकर ही मिला करिए अगर  डर  है  जमाने   का कि  कोई सुन  न ले   बातें तो फिर चलिए नजर से गुफ्तगू का सिलसिला करिए जमाना  बात  ही  मुरझाने  वाली  करता  है  अक्सर अरे पर आप तो गुल हो तो बस … Continue reading हँसकर मिला करिए

तो अच्छा हो

महामारी का ये दानव जो मर जाए तो अच्छा हो बुरा यह दौर दुनिया से गुजर जाए तो अच्छा हो नहीं अच्छा कि घर में बैठे भारत का जवां इसान कमाने के लिए ये फिर शहर जाए तो अच्छा हो प्रकृति द्वारा दिए उपहारों से खिलवाड़ न हो अब अरे अब भी अगर इंसाँ सुधर … Continue reading तो अच्छा हो

मुस्कुराना जिन्दगी है

गम़ में नगमें गुनगुनाना जिन्दगी है हाँ ये सच है मुस्कुराना जिन्दगी है हम तो कहते हैं कि जो रूठे हुए हैं बस उन्हीं को ही मनाना जिन्दगी है जंग जब अपनों से ही होने लगे तो मेरी समझ से हार जाना जिन्दगी है करके अपने वाले हर इक काम पूरे औरों के भी काम … Continue reading मुस्कुराना जिन्दगी है

68bc171b 9a46 46ae 8ebd 7e18cda5411e

हमने तो बस इतना पूछा था..

बहुत छोटी सी बात थी  उन्होंने बवाल बडा कर दिया हमने तो  बस इतना पूछा था  कि कहाँ व्यस्त थे उन्होंने तो हमारी वफा पर  सवाल खडा कर दिया क्या अब उनका दिल हमारे लिए  धडक नहीं रहा या हमको उनसे कुछ पूछने का  हक नहीं रहा झूठी निकलती जा रही हैं वफाओं की बातें … Continue reading हमने तो बस इतना पूछा था..

परी हो तुम

कोई जादू हो या जादूगरी हो तुम  अप्सरा हो हूर हो या परी हो तुम तुमसे मिला हूँ पहली बार बेशक मानता हूँ मैं लगता है तुम्हें बरसों से जैसे जानता हूँ मैं ये बात और है मेरे हाथों में इश्क की रेखा नहीं पर सच बताऊँ तुम्हें देखकर मैने कुछ देखा नहीं तुम्हारी हँसी … Continue reading परी हो तुम

दोस्ती यारी रिश्तेदारी बाद में निभाएंगे

दोस्ती यारी रिश्तेदारी और प्यार बाद में निभाएंगे अब तो सबसे पहले मिलकर हम कोरोना भगाएंगे हर आधे आधे घण्टे में हाथों में लगाकर साबुन खुद बीस सेकेंड धोएंगे दूसरों को भी धुलवाएंगे घर में रहेंगे चौबीस घण्टे काम में हाथ बटाएंगे बहुत जरुरी हुआ अगर तब ही बाजार को जाएंगे बाहर से आई हर … Continue reading दोस्ती यारी रिश्तेदारी बाद में निभाएंगे

किस्मत का अजीब खेल

किस्मत ने भी अजीब खेल खेला है मेरे साथ जिसने हमको चाहा वो हमें गवारा न हुआ और जिसको हमने चाहा वो कभी हमारा न हुआ जो हम पर मर मिटा उसे हम जान न सके हम जिसपे मरे वो हमको अपना मान न सके ये सिलसिला ताउम्र कुछ ऐसे ही चलता रहा हम किसी … Continue reading किस्मत का अजीब खेल

अब वो तेरा नहीं रहा

उसके दिल में अब तेरा बसेरा नहीं रहा ऐ मेरे दिल जो कभी तेरा था अब वो तेरा नहीं रहा तो चल .. कहीं दूर तनहाई में थोडे अश्क बहाते हैं उसकी बेवफाई में लोग तो मोहब्बत में जाने क्या क्या करते हैं चल हम भी उसके नाम थोडी वफा करते हैं याद में उसकी … Continue reading अब वो तेरा नहीं रहा

आ तुझे माँ से मिला दूँ मैं

तू कहता है दुनिया में मोहब्बत नहीं है तू कहता है दुनिया में मोहब्बत नहीं है तो चल तुझे मोहब्बत की जन्नत दिखा दूँ मैं आ मेरे साथ अरे नादान तुझे माँ से मिला दूँ मैं इक दफा जाता है तो लौट के आता नहीं सावन हुस्न के धोखा देने से खतम हो जाता है … Continue reading आ तुझे माँ से मिला दूँ मैं

डायरी से शायरी

गुस्ताखी माफ हमें प्यार का ईनाम चाहिए तुम्हारे शबनमी होठों का इक जाम चाहिए अब थक चुका हूँ तेरे जमाने के सितम से बाहों में तेरी आकर के कुछ आराम चाहिए आँखों में बसा लूँ तेरे हर एक सपन को बाहों में छुपा लूँ तेरे मखमल से बदन को भर लूंगा लाखों बूंदें आँखों में … Continue reading डायरी से शायरी