कविताएं, दिल की बातें, रोमांटिक शायरी

तुम्हारे लिए..

तुम हमसे सवाल पूछते हो और
हम चुप रहते हैं
इसका मतलब यह नहीं है कि हम गुनाहगार हैं
हम इसलिए चुप रहते हैं
क्योंकि गलती हमेशा तुम्हारी रहती है
और हम तुम्हें गलत कहना नहीं चाहते
हमें पता है जब हम तुम्हें
गलत साबित कर देंगे तो तुम रोओगे
तुम रोओगे तो हमारा दिल रोएगा
अब इसे हमारी मोहब्बत कहो या पागलपन
लेकिन हम तुम्हारी आँखों में आँसू
नहीं देखना चाहते
तुम्हारे माथे पर पछतावे या उदासी
की एक शिकन तक नहीं देखना चाहते
हम तुम्हें हमेशा हर हाल में
हँसते और मुस्कुराते हुए
देखना चाहते हैं
चाहे इसके लिए हमें लाखों बार
बिना गुनाह के गुनाहगार बनना पडे
हमें सब मंजूर है…तुम्हारे लिए।