कविताएं, दिल की बातें

अपना टाइम आएगा

जीवन का यह अंधियारा ही
इक दिन राह दिखाएगा
तू सब्र तो रख ऐ मेरे दिल
अपना भी टाइम आएगा
तू कुछ भी नहीं कर सकता है
कहने दे जो कहते हैं
तू करता चल अपने करम
बाकी सब वक्त बताएगा
कडवी बोली से तानों से
कोई कितना भी रोके राहें
परवाह न कर तू चलता चल
जो होगा देखा जाएगा
लोगों को मत समझा तू
मेहनत कर बस मेहनत कर
तेरी सफलता से सबका मुँह
खुद ही बन्द हो जाएगा
जीवन का यह अंधियारा ही
इक दिन राह दिखाएगा
तू सब्र तो रख ऐ मेरे दिल
अपना भी टाइम आएगा