ये मोहब्बत भी अजीब है

ये मोहब्बत भी अजीब है जो दुनिया भुला देती है
ये वो इकलौती हँसी है जो अक्सर रुला देती है
कभी तो कर देती है रोशन ये झोपडी गरीब की
कभी बडे बडे महलों में भी आग लगा देती है
मजा भी देती है लेकिन जब दोनों तरफ से हो
एकतरफा हुई तो रोज कोई दर्द नया देती है
किसी मरने वाले को आकर दे जाती है जिन्दगी
किसी की जिन्दगी को मौत की नींद सुला देती है
इसे करना तो बहुत सोच समझ कर ही करना
ये अच्छे भले इंसान को भी रोगी बना देती है
ये मोहब्बत भी अजीब है जो दुनिया भुला देती है
ये वो इकलौती हँसी है जो अक्सर रुला देती है