गज़ल, गीत, दिल की बातें

दिल की आरजू

दिल की आरजू है एक दिन तेरा होऊँ भूल कर ये दुनिया तेरी बाहों मैं सोऊँ अपने आप में तू मुझको ऐसे समा ले जब जब तू हँसे हँसू तेरे रोने से रोऊँ सारा सारा दिन तेरे खयालों में रहूँ मैं सारी सारी रात तेरे सपने सजोऊँँ खो जाए मेरा सब कुछ मंजूर है मुझे… Continue reading दिल की आरजू

beautiful 3223194 1920 1062971894
कविताएं

तुम्हें पा के रहेंगे

तुम्हारा सपना आँखों में सजा के रहेंगे तुमको अपनी दुल्हन हम बना के रहेंगे हम और हमारा दिल दोनों तुमसे प्यार करते हैं हर पल हर घडी बस तुम्हारा इन्तजार करते हैं आजकल दिल ही है जो हमारी बात मानता है हमारी ख्धाहिशों को अच्छी तरह पहचानता है इसलिए ऐ जान-ए-मन हम अपने दिल को… Continue reading तुम्हें पा के रहेंगे

दिल की बातें

मेरी चाहत मेरी आरजू

मैं कुछ इस तरह से तेरे खयालों में खोना चाहता हूँ मन के धागों में तेरे नाम के मोती पिरोना चाहता हूँ मुझे चाहत नहीं है किसी अमृत किसी सागर किसी बरसात की मैं तेरे लबों से अपने लबों को भिगोना चाहता हूँ अब इन्तजार नहीं है मुझको किसी भी काली रात का क्योंकि मैं… Continue reading मेरी चाहत मेरी आरजू