किस्मत का अजीब खेल

किस्मत ने भी अजीब खेल खेला है मेरे साथ जिसने हमको चाहा वो हमें गवारा न हुआ और जिसको हमने चाहा वो कभी हमारा न हुआ जो हम पर मर मिटा उसे हम जान न सके हम जिसपे मरे वो हमको अपना मान न सके ये सिलसिला ताउम्र कुछ ऐसे ही चलता रहा हम किसी … Continue reading किस्मत का अजीब खेल

अब वो तेरा नहीं रहा

उसके दिल में अब तेरा बसेरा नहीं रहा ऐ मेरे दिल जो कभी तेरा था अब वो तेरा नहीं रहा तो चल .. कहीं दूर तनहाई में थोडे अश्क बहाते हैं उसकी बेवफाई में लोग तो मोहब्बत में जाने क्या क्या करते हैं चल हम भी उसके नाम थोडी वफा करते हैं याद में उसकी … Continue reading अब वो तेरा नहीं रहा

नववर्ष की शुभकामनाएं

कोहरे में लिपटी हुई ठण्डी हवाएं कहती हैं हँस के सुनो ये फिजाएं सफलता मिले आपको हर जगह नये वर्ष में हैं ये शुभकामनाएं खुशी आपके वास्ते हो दीवानी गमों की न हो जिन्दगी में निशानी ये लब आपके हर घडी मुस्कुराएं नये वर्ष में हैं ये शुभकामनाएं

तुम रूठा न करो

यूं रूठा न करो हमसे हम रह नहीं पाते तुम्हारी यह बेरुखी तुम्हारी नाराजगी हम सह नहीं पाते हमारी धडकन चलती है तुम्हारी मुस्कुराहट से अरे हम जिन्दा हैं तो बस , तुम्हारी ही चाहत से अटक सी जाती हैं साँसें बातें लब तक न आती हैं तुम नहीं बोलते जब तो हमारी जान जाती … Continue reading तुम रूठा न करो

तेरे साथ ही तो मेरी जिन्दगी है

तेरी मुस्कुराहट ही मेरी हँसी है तेरे साथ ही तो मेरी जिन्दगी है तू ही है मेरी दौलत कसम से तू मेरा है तो मुझे क्या कमी है तेरी चाहतें और तेरी मोहब्बत मेरे पास है तो दुनिया मेरी है मुझे छोडकर तू न जाना कभी ख्वाहिश मेरी अब यही आखिरी है तेरी मुस्कुराहट ही … Continue reading तेरे साथ ही तो मेरी जिन्दगी है

www.itslove.in

ख्वाबों में चले आना

पलकों के घर में छुप के दोनों प्यार करेंगे तुम ख्वाबों में चले आना हम इन्तजार करेंगे न चाँद को देखेंगे न देखेंगे सितारे हम रात भर इक दूजे का दीदार करेंगे बातें अपने दिल की तुम हमसे बताना हम तुमसे अपनी जिन्दगी इजहार करेंगे आँखों में मेरी देख हो जाना तुम बेताब हम तुमको … Continue reading ख्वाबों में चले आना

हैप्पी करवा चौथ !

बन के सजनी मैं ही तेरी साजन रहूँँ जिन्दगी भर तेरे दिल के आँगन रहूँ अपने रब यही अब माँगती हूँ दुआ जब तलक मैं रहूं बस सुहागन रहूँ तुझसे पहले था जीवन अँधेरा घना तू मिला तो रोशनी से हुआ सामना अपने ईश्वर से तो अब यही मैं कहूँ तुझको लग जाए मेरी उमर … Continue reading हैप्पी करवा चौथ !

2859643 L

मेरा कसूर क्या है

रूठने की वजह बताओ ऐ हुजूर क्या है चाहने के शिवा तुमको मेरा कसूर क्या है नहीं है मुझको तजुर्बा अगर तो क्या जानू शऊर क्या है मोहब्बत में बेशऊर क्या है जब से जाना है बस तुम्हीं को जाना मैनें मैं नहीं जानता परी क्या है और हूर क्या है जब से देखा है … Continue reading मेरा कसूर क्या है

बेतकदीर हूँ बरसों से

ठहरो आंखों में तुम्हारी तस्वीर बना लूं मैं बेतकदीर हूँ बरसों से तकदीर बना लूं मैं कोई छीन नहीं पाए मुझसे तेरी चाहत तुझको ऐसे हाथों की लकीर बना लूं मैं जब तक है जाँ में जाँ तू मेरी ही रहना आ जा तुझको अपनी जागीर बना लूँ मैं चाहूँ तुझको शीरी फरहाद से भी … Continue reading बेतकदीर हूँ बरसों से

उफ! मेरी जिन्दगी

हमसे किस्मत हमारी खफा हो गई उफ मेरी जिन्दगी क्या से क्या हो गई जो सिखाती थी हमको मोहब्बत कभी देख लो आज खुद वो बेवफा हो गई उठ रहे मन में क्यों लाखों तूफान हैं क्या बताएं कि हम क्यों परेशान हैं वो दूर जब से गया यार बस जान लो दिल मे धडकन … Continue reading उफ! मेरी जिन्दगी